3,500 KM की मारक क्षमता वाली परमाणू मिसाइल का परीक्षण करने जा रहा भारत, दुश्मनों की उड़ा देगा नींद









नई दिल्लीः भारत एक और परमाणु मिसाइल का परीक्षण करने वाला है, जिससे दुश्मनों की नींद उड़ने वाला है। इसकी गूंज पड़ोसी देश को सुनाई देने वाली है। पनडुब्बियों से दुश्मन के टारगेट्स को मार गिराने की अपनी क्षमताओं को और मजबूत करने के लिए भारत शुक्रवार को आंध्र प्रदेश के तट से पानी के नीचे से 3,500 किलोमीटर की मारक क्षमता वाली के-4 परमाणु मिसाइल का परीक्षण करने की योजना बना रहा है।

इस परमाणु मिसाइल प्रणाली को डीआरडीओ द्वारा विकसित किया जा रहा है, जो अरिहंत श्रेणी की परमाणु पनडुब्बियों के लिए है। जो कि भारत द्वारा बनाया जा रहा है। यह पनडुब्बियां भारत के परमाणु परीक्षण का मुख्य आधार होंगी। सरकारी सूत्रों की मानें तो योजना के मुताबिक, डीआरडीओ शुक्रवार को विशाखापट्टनम तट से पानी के नीचे से के-4 परमाणु मिसाइल का परीक्षण करेगा। इस ट्रायल के दौरान डीआरडीओ मिसाइल प्रणाली में उन्नत प्रणालियों का परीक्षण करेगा।

के-4 पानी के अंदर चलाई जाने वाली ऐसी दो मिसाइलों में से एक है, जिन्हें विकसित किया जा रहा है। दूसरी मिसाइल का नाम बीओ-5 है, जिसकी मारक क्षमता करीब 700 किलोमीटर है। हालांकि, यह अब तक स्पष्ट नहीं है कि डीआरडीओ मिसाइल का परीक्षण लंबी दूरी पर करेगा या छोटी दूरी पर।

error: Content is protected !!