HMV में अन्तर्राष्ट्रीय मानवाधिकार दिवस पर विस्तार संभाषण का आयोजन









जालंधर (अमन बग्गा): हंसराज महिला महाविद्यालय जालन्धर के राजनीति शास्त्र विभाग की ओर से प्राचार्या प्रो. डॉ. (श्रीमती) अजय सरीन जी के उत्साहपूर्ण नेतृत्व अधीन मानवाधिकार विषय पर विस्तार संभाषण का आयोजन किया गया। इस अवसर पर मुख्य वक्ता के रूप में डॉ. रुपम जगोता उपस्थित रहे। प्राचार्या प्रो. डॉ. (श्रीमती) अजय सरीन जी ने मुख्य वक्ता डॉ. रुपम जगोता का प्लांटर भेंट कर हार्दिक अभिनंदन किया। प्राचार्या जी ने मानवीय एकजुटता, सहयोग एवं विकास सम्बन्धी अपने विचार प्रस्तुत किए। उन्होंने मानवीय अधिकारों की सार्वभौमिक घोषणा को मील पत्थर बताते हुए कहा कि इन मानवाधिकारों का सभी किसी भी प्रकार के जातीय, रंग, भेद इत्यादि के प्रयोग करते हैं। इन मानवाधिकारों का उचित प्रयोग करने हेतु उन्होंने प्रेरित किया।

डॉ. रुपम जगोता ने अपने संभाषण में कहा कि हमारे अधिकार असुरक्षित हैं क्योंकि हम अपने कत्र्तव्यों को नहीं निभाते। हमें यह समझने की जरूरत है कि हमारे अधिकारों के समान ही दूसरे के अधिकार भी महत्व रखते हैं। उन्होंने कानूनी जानकारी भी दी। छात्राओं ने प्रश्न पूछकर अपनी जिज्ञासा को शान्त किया। श्रीमती मीनाक्षी स्याल (स्कूल कोआर्डिनेटर) ने कहा कि हमें केवल अपने अधिकारों का आनन्द ही नहीं लेना चाहिए बल्कि अपने कत्र्तव्यों को भी निभाना चाहिए। श्रीमती नीटा मलिक (विभागाध्यक्षा, राजनीति शास्त्र) ने भी छात्राओं को अधिकारों व कत्र्तव्यों के प्रति सुचेत किया। इस अवसर पर श्रीमती अलका शर्मा, डॉ. जीवन देवी भी उपस्थित रहे।



error: Content is protected !!