मनरेगा स्कीम में ढ़ाई करोड़ से अधिक का घोटाला करने वाले पांच कर्मचारी बर्खास्त









चंडीगढ़ः पंजाब के ग्रामीण विकास एवं पंचायत मंत्री तृप्त राजिन्दर सिंह बाजवा ने महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजग़ार गारंटी योजना (मनरेगा) को लागू करने में दो करोड़ 59 लाख रुपए का घोटाला करने वाले पांच कर्मचारियों को बर्खास्त करने और एक कर्मचारी के खिलाफ मामला दर्ज करने के आदेश दिये हैं।

विभाग के प्रवक्ता ने आज यहां बताया कि ये कर्मचारी फरीदकोट,मुक्तसर साहिब और फिऱोज़पुर जिले के हैं। मनरेगा स्कीम को लागू करने के मामले में की गई जांच में ब्लॉक फरीदकोट के सहायक प्रोजैक्ट अधिकारी यादविन्दर सिंह, ब्लॉक गिद्दड़बाहा के सहायक प्रोजैक्ट अधिकारी हरप्रीत सिंह, ब्लॉक गुरूहरसहाए के सहायक प्रोजैक्ट अधिकारी दलीप कुमार, ब्लॉक फिऱोज़पुर के सहायक प्रोजैक्ट अधिकारी रजनी शर्मा और मीना शर्मा और ब्लॉक घल्ल खुर्द के सहायक प्रोजैक्ट अधिकारी चरनजीत सिंह पर आरोप है कि इन्होंंने इस स्कीम के तहत इस्तेमाल की गई सामग्री के लिए दो करोड़ 59 लाख रुपए की फर्जी अदायगी की।

इनमें से पहले ही इस्तीफ़ा दे गए ब्लॉक फरीदकोट के सहायक प्रोजैक्ट अधिकारी यादविन्दर सिंह के विरुद्ध पुलिस केस दर्ज कराने और शेष को बर्खास्त करने के आदेश किये गए हैं। बाजवा ने विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों को आदेश दिया है कि मनरेगा समेत विभाग द्वारा लागू की जा रही किसी भी स्कीम में भ्रष्टाचार और रिश्वतख़ोरी कतई बर्दाश्त नहीं की जायेगी । राज्य के हर ब्लॉक में इस स्कीम को लागू किये जाने की तुरंत पड़ताल करवाई जाये। उन्होंने हिदायत की कि इस स्कीम के अंतर्गत जारी किये गए एक-एक पैसे को सही जगह पर ख़र्च करने को यकीनी बनाया जाए।



error: Content is protected !!