खाकी वर्दी पर नशीले पदार्थों के सेवन के दाग हुए गहरे, पंजाब पुलिस के 13 जवान खुद डोप टेस्ट में हुए फेल









अमृतसरः सिविल अस्पताल में तरनतारन पुलिस का डोप टेस्ट करवाया गया जिसमें 22 में से 13 जवान टेस्ट में फेल हो गए। साथ ही टेस्ट में इन जवानों का वजन भी अधिक पाया गया। सिविल अस्पताल स्थित लैबोरेटरी में तरनतारन पुलिस का जमावड़ा लगा हुआ था। ये मुलाजिम डोप टेस्ट करवाने आए थे। डीएसपी तरनतारन सुखमिंदर सिंह ने अस्पताल के एसएमओ डॉ. अरुण शर्मा को एक विनय पत्र दिया, जिसमें इन मुलाजिमों का डोप टेस्ट करने को कहा गया था।

इसके बाद एक-एक मुलाजिम को लैब में भेजा गया और उनके यूरिन के सैंपल लिए गए। सिविल सर्जन डॉ. प्रभदीप कौर जौहल भी लैबोरेटरी में पहुंचीं और स्टाफ को ताकीद की कि डोप टेस्ट की हर प्रक्रिया पूरी की जाए। दोपहर दो बजे डोप टेस्ट की रिपोर्ट आई तो 22 में से 13 मुलाजिम का डोप टेस्ट फेल पाए गए। ज्यादातर पुलिस मुलाजिमों के यूरिन में मॉरफिन पाई गई।

स्वास्थ्य विभाग द्वारा संचालित सिविल अस्पताल तरनतारन एवं सिविल अस्पताल पट्टी में डोप टेस्ट करने के नाम पर बड़ी धांधली हुई है। उक्त पुलिस मुलाजिमों का पहले इन्हीं दोनों अस्पतालों में डोप टेस्ट हुआ था। इस दौरान डोप टेस्ट की रिपोर्ट निगेटिव आई। चूंकि तरनतारन पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों को शंका थी कि ये मुलाजिम नशेड़ी हैं, इसलिए इनका डोप टेस्ट अमृतसर से करवाया गया।



error: Content is protected !!