करतारपुर साहिब जा रहे श्रद्धालु जान लें यात्रा से संबंधित ये जरूरी नियम









जालंधरः कई साल के इंतजार बाद अब सिख तीर्थ करतारपुर साहिब के लिए वीजा फ्री यात्रा शुरू होगी। कल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कॉरिडोर का उद्घाटन करेंगे। उधर, पाकिस्तान की तरफ प्रधानमंत्री इमरान खान कॉरिडोर का लोकार्पण करेंगे। पिछले साल भारत में 26 नवंबर को और पाकिस्तान में 28 नवंबर को कॉरिडोर का शिलान्यास किया गया था। कॉरिडोर में भारत की ओर बनी 3.8 किमी सड़क के किनारे 8 हजार पौधे लगाए जा रहे हैं। सर्विस लेन पर 226 लाइटें और मेन रोड पर 114 लाइटें लगाई गई हैं।

आपकी जानकारी के लिए बता दें, करतारपुर साहिब सिखों का सबसे पवित्र माना जाने वाला तिर्थ स्थान है। यह स्थान सिखों के गुरु, गुरुनानक देव जी का निवास स्थान माना जाता है। मान्यताओं के अनुसार इसी जगह उनका निधन हुआ था। इसलिये गुरुनानक देव जी की याद में ही यह गुरुद्वारा बनाया गया। करतारपुर साहिब, पाकिस्‍तान के नारोवाल जिले में है जो पंजाब में आता है। यह स्थान लाहौर से करीब 120 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

करतारपुर साहिब गुरुद्वारा के दर्शन पर जाने वाले श्रद्धालुओं को रजिस्ट्रेशन करवाना होगा। चलिए जानते है यात्रा से संबंधित जरूरी नियम जो करतारपुर साहिब जा रहे श्रद्धालुओं के लिए जानना बेहद जरुरी है..

* लुधियाना के सेवा केंद्र डिवीजनल मैनेजर के अनुसार करतारपुर साहिब गुरुद्वारा सिर्फ 13 साल से 75 साल तक के श्रद्धालु ही जा पायेंगे।

* प्रदेश के 700 सेवा केंद्रों पर 1 नवंबर से करतारपुर गुरुद्वार जाने के लिए रजिस्ट्रेशन्स शुरु हो चुके हैं।

* ऑनलाइन फार्म भरते समय पासपोर्ट साइज फोटो, पासपोर्ट के अगले और पिछले पेज की पीडीएफ फाइल अपलोड होगी।

* वीजा की कोई जरूरत नहीं। जरूरी प्रक्रिया पूरी करने के बाद आपका रजिस्ट्रेशन फार्म सेवा केंद्र में अपलोड कर दिया जाएगा।

* इसके बाद आवेदक को मैसेज के जरिए मोबाइल पर फीडबैक मिलता है और इसके बाद पुलिस वेरीफिकेशन शुरू हो जाएगा।

* पुलिस वेरीफिकेशन के बाद आवेदक को केंद्रीय गृह मंत्रालय से करतारपुर साहिब की यात्रा संबंधी मंजूरी मिलेगी।

* श्रद्धालु अपने साथ 7 किलो से ज्यादा वजन का सामान नहीं ले जा सकते हैं।

* यात्रा के दौरान 11,000 रुपए से ज्यादा की भारतीय करंसी भी अपने पास नहीं रख सकते हैं।

* करतापुर कॉरिडोर साल भर खुला रहेगा। यानी, श्रद्धालु कभी भी दर्शन के लिए अनुमति लेकर जा सकते हैं।

* भारत से यात्रा की मंजूरी मिलने के बाद श्रद्धालुओं को करतारपुर साहिब जाने के लिए 20 डॉलर यानी करीब 1400 रुपए का शुल्क देना होगा।

error: Content is protected !!