PLN न्यूज़🚩श्रीमद भगवत गीता जयंती के उपलक्ष्य में एडवोकेट लिटरेरी फोरम द्वारा जालंधर में सेमिनार आयोजित 🚩18 अध्यायों 700 श्लोकों 94569 शब्दों वाले महान ग्रँथ श्रीमद भगवत गीता का विश्व की 578 से भी अधिक भाषाओं में हो चुका है ट्रांसलेशन – श्री विजय नड्डा









वीडियो देखने के लिए क्लिक करें👇👇

https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=10221269502586378&id=1211418782

🖕🖕🖕🖕🖕🖕🖕🖕🖕🖕🖕🖕🖕

जालंधर(अमन बग्गा) एडवोकेट्स लिटरेरी फोरम जालंधर द्वारा श्रीमद भगवद गीता जयंती के उपलक्ष में न्यू जवाहर नगर में स्थित हीट सेवन रैस्टॉरेंट में कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमे श्री विजय नड्डा क्षेत्रिय संगठन मंत्री उत्तर भारत विद्या भारती एवं अजय कौशिक एडवोकेट मुख्य वक्ता के तौर पर उपस्थित हुई!

इस अवसर पर पंजाब बीजेपी उपाध्यक्ष राजेश बाघा विशेष तोर पर शामिल हुए । 

इस मौके एडवोकेट स. दर्शन सिंह व एडवोकेट नवजोत सिंह नेे आये हुए मुख्यातिथियों को सम्मानित करते हुए कार्यक्रम में पहुंचने पर आभार व्यक्त किया।

इस आयोयजन में फोरम के मेंमबर्स एडवोकेट्स, न्यू जवाहर नगर के निवासी, न्यू जवाहर नगर मार्किट के मेंबर्स और गणमान्य व्यक्ति शामिल हुए।

इस मौके मुख्य वक्ता श्री विजय नड्डा व श्री अजय कौशिक ने श्रीमद भगवद गीता के श्लोक एवम 18 अध्यायों के बारे में बताते हुए कहा कि श्रीमद्भगवद्गीता ने किसी मत, पंथ की सराहना या निंदा नहीं की अपितु मनुष्यमात्र की उन्नति की बात कही है ।  गीता जीवन का दृष्टिकोण उन्नत बनाने की कला सिखाती है और युद्ध जैसे घोर कर्मों में भी निर्लेप रहने की कला सिखाती है । मरने के बाद नहीं, जीते-जी मुक्ति का स्वाद दिलाती है गीता !

उन्होंने बताया कि इस साल श्रीमद्भगवद्गीता जयंती 08 दिसंबर को है। उन्होंने बताया कि ‘गीता’ ग्रन्थ में 18 अध्याय हैं, 700 #श्लोक हैं, 94569 शब्द हैं । विश्व की 578 से भी अधिक भाषाओं में गीता का अनुवाद हो चुका है । ऐसे महान ग्रन्थ को हमे अवश्य पढ़ कर आत्मसात करना चाहिए

उन्होंने बताया कि 8 दिसम्बर को सभी संगठन  श्री मद भगवत गीता जयंती पर कार्यक्रम आयोजित करें व श्री गीता ग्रँथ वितरित करें।

फोरम के कन्वीनर एडवोकेट स.नवजोत सिंह ने फोरम के तरफ से हो रहे कार्यक्रम के बारे में जानकारी दीं औरश्री मद भगवद गीता की महानता के बारे में अवगत करवाया।

उन्होंने बताया कि ‘यह मेरा हृदय है’- ऐसा अगर किसी ग्रंथ के लिए #भगवान ने कहा है तो वह गीता जी है । गीता मे हृदयं पार्थ । ‘गीता मेरा हृदय है ।’

इस मौके एडवोकेट सुतीक्ष्ण समरोल ने कहा कि श्री मद भगवद गीता ग्रन्थ ने गजब कर दिया – धर्मक्षेत्रे कुरुक्षेत्रे… युद्ध के मैदान को भी धर्मक्षेत्र बना दिया । युद्ध के मैदान में गीता ने योग प्रकटाया । हाथी चिंघाड़ रहे हैं, घोड़े हिनहिना रहे हैं, दोनों सेनाओं के योद्धा प्रतिशोध की आग में तप रहे हैं । किंकर्तव्यविमूढ़ता से उदास बैठे हुए अर्जुन को भगवान श्रीकृष्ण ज्ञान का उपदेश दे रहे हैं ।
उन्होंने बताया कि आजादी के समय #स्वतंत्रता सेनानियों को जब फाँसी की सजा दी जाती थी, तब ‘गीता’ के #श्लोक बोलते हुए वे हँसते-हँसते #फाँसी पर लटक जाते थे।

इस मौके पर एडवोकेट अर्जुन खुराना ने कहा कि यह फोरम हमेशा समाजिक कार्यों के लिए अग्रसर रहती है और आने वाले समय मे भी फॉर्म ऐसे कार्यक्रम आयोजित करती रहेगी।

इस अवसर पर श्रीमद भागवत गीता ग्रन्थ हिंदी और अंग्रेजी का साहित्य भी वितरित किये गए।

इस कार्यक्रम में अशोक परुथी अमरजीत सिंह गोल्डी गगनदीप मेहता, रमेश सोढ़ी, अर्जुन खुराना, देविंदर शर्मा, मोहित भारद्वाज, विशाल परूथी ,अरमिंदर सिंह राजपाल, परमजीत सिंह कंडा, नवीत ढल्ल, अमरदीप गांधी, अनिल वर्मा, सुतीक्षण समरोल, विशाल वड़ैच, विनय महाजन, रमेश कुमार हैप्पी, सुरिंदर वधवा, अनिल सचदेवा, सुनील सचदेवा ऊपस्थित रहे।



error: Content is protected !!