लुधियाना : सम्पन्न हुआ विराट धर्म सम्मेलन, सन्तों ने सरकार से श्री राम मन्दिर के पक्ष में अध्यादेश लाने को कहा, उत्साहित श्री राम भक्तों के सैलाब से छोटा पड़ गया विशाल पंडाल, “मन्दिर भव्य बनाएंगे” के जय घोश से गूंजता रहा आसमान









PLN लुधियाना: {राजेश भंडारी} सारे शहर में निकली प्रभात फेरियों/सन्ध्या फेरियों, रथ यात्राओं के बाद आज दाना मंडी में सन्त समाज की अगुवाई में विराट धर्म सम्मेलन सम्पन्न हुआ।

हजारों राम भक्तों की उपस्थिति में सन्तों ने किया श्री राम मन्दिर के पक्ष में शंख नाद।

श्री राम जन्म भूमि सेवा समिति द्वारा शहर की दाना मंडी में विराट धर्म सम्मेलन का आयोजन किया गया, जिसमे पूज्य सन्त स्वामी अतुल कृष्ण जी, साध्वी सत्यप्रिया जी, सन्त निर्मल सिंह नामधारी जी, महामंडलेश्वर 1008 सुश्री वेद भारती जी और राष्ट्रीय संगठन मंत्री श्री कश्मीरी लाल जी उपस्थित रहे।

दीप प्रज्वलन के बाद स्वामी अतुल कृष्ण जी ने भारी जनसमूह को सम्बोधित करते हुए कहा की देश की सर्वोच्च अदालत ने स्पष्ट कहा है की बाबरी मसिजद नमाज के लिए अनिवार्य नहीं है, नमाज खुले में भी की जा सकती है। 1528 में मुगल हमलावर बाबर ने अगर मसिजद बनानी ही थी तो कहीं भी बना सकता था परन्तु उसने हिन्दू आस्था को चोट पहुंचाने के लिए श्री राम जी के मन्दिर को तोड़ कर वहां तथाकथित मस्जिद बनवाई।

साध्वी सत्यप्रिया जी ने कहा की जिस दिन विदेशी आक्रांता ने श्री रामजी के जन्म स्थान पर बना मन्दिर ध्वस्त किया था, उसी दिन से हिंदुओं का श्री राम जन्म भूमि पर पुनः मन्दिर बनाने का संघर्ष चालू है जो आज भी जारी है। इस दौरान हिंदुओं ने 78 बार युद्ध किये और लाखों हिन्दू इस धर्म युद्ध में अब तक बलिदान हो चुके हैं। उन्होंने ने आगे कहा की 26 वर्षों से हिंदुओं के आराध्य टाट के भवन में अपने भक्तों के पौरुष के पुनर्जागरण की प्रतिक्षा कर रहे हैं।

इस अवसर पर सुप्रीम कोर्ट की कार्य शैली पर भी सवाल खड़े किये गए की आतंकवादियों के लिए तो आधी रात को भी अदालतें काम करती हैं परन्तु हिन्दू आस्था श्री राम लला जी उनकी प्राथमिकता में नहीं है।
बहरहाल सारे देश में चल रहे इस तरह के अभियानों के चलते ये आशा की जानी चाहिए की अब श्री अयोध्या जी में श्री राम लला जी मन्दिर अवश्य ही बनके रहेगा।

इस आयोजन के सफलता पूर्वक सम्पन्न होने के बाद जिला मंत्री पाली सहजपाल ने उन सभी लोगों को धन्यवाद दिया जिन्होंने इस दैवी कार्य में सहयोग दिया।

 

 



error: Content is protected !!