तांत्रिक विधि व काला जादू से गुरुकुल के दो बच्चों की मौत के मामले में हिन्दू संत श्री आसाराम जी बापू को मिली क्लीन चिट. निंदकों का हो गया मुँह काला. लगा करारा तमाचा. छाती पीट पीट कर हिन्दू संत पर कीचड़ उछालने वाले मीडिया के दलाल पत्रकारों व जयचन्दों की गद्दार हिन्दू औलादों अब पीटो छाती. अब सांप सूंघ क्या?









अमन बग्गा – 9888799688

न्यूज़ अधिक से अधिक शेयर करें

गांधीनगर: निंदकों का हो गया मुँह काला. गाल पर लगा करारा तमाचा. छाती पीट पीट कर हिन्दू संत पर कीचड़ उछालने वाले मीडिया के कुछ दलाल पत्रकारों व हिन्दू होकर हिन्दू संत की निंदा करने वाले जयचन्दों की गद्दार हिन्दू औलादों देख लो संत श्री आसाराम जी बापू व उन के बेटे संत नारायण साई जी को न्यायमूर्ति डी के त्रिवेदी आयोग ने उनके द्वारा  अहमदाबाद में संचालित आवासीय गुरुकुल में पढ़ने वाले दो बच्चों की मौत के मामले में क्लीन चिट दे दी है.ये रिपोर्ट शुक्रवार को गुजरात विधानसभा में पेश की गई. 

गुरुकुल में पढ़ने वाले दो भाईयों दीपेश वाघेला (10) और अभिषेक वाघेला (11) के शव पांच जुलाई 2008 को साबरमती नदी के किनारे मिले थे। तब देश भर की मीडिया व जयचन्दों की नाजायज औलादों ने तांत्रिक विद्या व काला जादू आदि के द्वारा बच्चों की बलि देने के फर्जी व झूठे आरोप लगाकर हिन्दू संत को बदनाम किया गया था।

साजिशन गुंडों व बदमाशों से जुलाई 2008 गुरु पूर्णिमा पर आने वाले भक्तों व उन की गाड़ियों पर खूब पथराव करवाये गए थे कई जगह आगजनी हुई थी।

जुलाई 2008 में हुई इस घटना की जांच आयोग को सौंपी गई थी.  रिपोर्ट शुक्रवार को गुजरात विधानसभा में पेश की गई. 

आप को बात दें कि बापू जी के ‘आश्रम’ में बना गुरुकुल और हॉस्टल नदी किनारे स्थित है. रिपोर्ट में कहा गया है, ‘इस बात के कोई सबूत नहीं मिले कि संत श्री आसाराम जी बापू और उनके पुत्र नारायण साई आश्रम में तांत्रिक विधि किया करते थे। आश्रम में न ही तांत्रिक विधि होती है न ही कही कोई काला जादू होने के सबूत मिले है।

error: Content is protected !!