अयोध्या केस में अब हफ्ते में तीन की जगह पांच दिन होगी सुनवाई, नवंबर में आएगा फैसला. मुस्लिम पक्ष को आपत्ति






अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट की बेंच अब हफ्ते में पांच दिन सुनवाई करेगी जिससे इस बात के आसार बढ़ गए हैं कि कोर्ट नवंबर तक मामले में अपना फैसला दे सकता है।  इससे पहले सुनवाई केवल मंगलवार, बुधवार और गुरुवार को होती थी लेकिन अब सोमवार और शुक्रवार को भी होगी । जिससे इस बात के आसार बढ़ गए हैं कि अयोध्या मामले में फैसला 17 नवंबर से पहले आ सकता है जिस दिन जस्टिस रंजन गोगोई रिटायर हो रहे हैं। लेकिन सुन्नी वक्फ बोर्ड की तरफ से इस फैसले पर असमर्थता जाहिर की गई है. शुक्रवार को जब अदालत में मामले का सुनवाई शुरू हुई तो सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील ने चीफ जस्टिस के सामने अपनी बात रखी.

दरअसल, शुक्रवार को सुनवाई शुरू होते ही मुस्लिम पक्ष की तरफ से कोर्ट के सामने अपील की गई है कि वह हफ्ते में पांच दिन सुनवाई के लिए कोर्ट की मदद नहीं कर सकते हैं.

सुन्नी वक्फ बोर्ड की तरफ से वकील राजीव धवन ने अदालत से कहा कि ये सिर्फ एक हफ्ते का मामला नहीं है, बल्कि लंबे समय तक चलने वाला केस है. उन्होंने कहा कि हमें दिन-रात अनुवाद के कागज पढ़ने होते हैं और अन्य तैयारियां करनी पड़ती हैं. इस पर CJI रंजन गोगोई ने कहा है कि हमने आपकी बात सुन ली है, हम आपको बताएंगे.

error: Content is protected !!